घुटनों का दर्द
Knee Pain

घुटनों का दर्द

घुटना शरीर के सबसे सक्रीय वजन उठाने वाले जोड़ों मे से हैं। सभी दर्दो में घुटने का दर्द सबसे ज्यादा तकलीफदायक होता है, यह हर उम्र के लोगों पर आक्रमण सकता है। इसे ठीक होने में भी सबसे ज्यादा समय लगता है।
घुटने के दर्द के अनेक कारण हैं। दौडना , खराब मुद्रा में अत्यधिक चलना , साईकिल चालना , ट्रेडमिल का गलत उपयोग , बार -बार सीढ़ी चढ़ना-उतरना, ये सभी गतिविधियां घुटनों को बीमार करती हैं।
घुटने के दर्द का अन्य कारण अत्यधिक तेल मसाले युक्त भोजन भी है जिससे शरीर में यूरिक अम्ल की अधिकता हो जाती है। इससे गठिया भी हो सकता है।
योग के घुटने को सहयोग देने वाली पैरों के मांसपेशियां लचीली और मजबूत होती हैं।
घुटने के दर्द के लिए सुप्त पदांगुष्ठसन शीर्षाशन, सर्वागासन , जनु शीर्षाशन, हलासन , पश्चिमोत्तानासन आदि उपयोगी है। इससे पैरो को मजबूती मिलती हैं। साथ -साथ ये सभी मुद्राएँ मेरुदंड के लिए भी कारगर होती है।
वजन बढ़ना घुटने के समस्या का बड़ा कारण है। योगासन नियमित करने से वजन भी कम होता है। जिससे घुटनो को अतिरिक्त भार वहन नहीं करना पड़ता है।
योगासन करते समय आपको मुद्राओं से बचना होगा, जिनमें घुटने को मोड़ना होता है , जैसे साधारण पालथी मारकर की जाने वाली मुद्राएं, वज्रसान मुद्रा और इसके रूपान्तर आदि।

Leave a Reply

Close Menu
×
×

Cart