बारिश में कैसा हो आहार ?
बारिश में कैसा हो आहार

बारिश में कैसा हो आहार ?

बदलते मौसम के साथ बदले भोजन व्यवस्था

अच्छी शरीर नीव के लिए उम्र, लिंग व्यवसाय व मौसम के अनुरूप लिया गया भोजन हितकर होता है। हर मौसम में हमारे शरीर की जरूरते बदलती है और इसकी पूर्ति जिस भोजन से होती है वह भी बदलता रहता है।

बदलते मौसम व वातावरण के अनुसार भोजन से परिवर्तन आसानी से किये जा सकते है। जिस पानी का उपयोग भोजन पकने के लिए किया जाता है वह पूर्णतः साफ व बैक्टेरिया रहित हो। इसके लिए या तो प्यूरीफाइड पानी अन्यथा क्लोरीन की गोलिया डालकर या पानी को उबाल कर पिने योग्य या भोजन पकने योग्य किया जा सकता है।
रसोईघर के साथ आस-पास की सफाई भी जरुरी है, क्युकी कुछ कीटाणु जो हवा से आते है वे आस-पास की गन्दगी से हमारे रसोईघर को भी दूषित करते है। रसोईघर में पेयजल रखने का बर्तन प्रतिदिन साफ करे, पेयजल को हमेशा ढककर रखे, सब्जियों को पहले पानी से धो ले, फिर निथार कर पूर्णतः साफ करके छिले या कटे।

कच्ची सब्जी –
सलाद में प्रयुक्त सब्जियों को कुछ देर पानी में डुबोकर रखे ताकि सब्जी में लगी गन्दगी अच्छी तरह साफ हो जाये। मख्हियों से सावधान रहे। रसोईघर में खाघ सामग्री ढक कर रखे। भोजन वाले चम्मच को एक साफ सूती कपडे से ढके ताकि मख्हियों से सुरक्षा होगी। चावल के पसिया माढ़ को फेके नहीं। उसमे सब्जी का रस या दाल पतली करने के उपयोग में लाये। भोजन को ज़रूरत से ज्यादा न पकाये इससे जरुरी पौष्टिक तत्व नष्ट हो जाते है। भोजन को ढक कर पकाये। रसोईघर में फिनाइल डालकर दिन में दो बार पोछा लगवाए।

आहार कैसा हो –
यह जरुरी है की भोजन के सभी जरुरी पोषक तत्व हमें सही मात्रा में मिलते रहना चाहिए। इसके लिए भोजन के जरुरी छः समूहों की निर्धारित मात्रा हमारे भोजन में शामिल होनी चाहिए। इस मौसम में हल्का सुपाच्य व सावधनी पूर्वक बनाया गया भोजन लेना चाहिए। बारिश के मौसम में सामान्यतः प्यास कम लगती है पर शरीर में जल की जरुरत सामान्य ही रहती है, इसलिए अधिक पैन पिटे रहना चाहिए। सामान्यतः बारिश के मौसम में लोग तला भोजन करते है। लेकिन अधिक वसा का उपयोग किसी भी मौसम में हितकर नहीं होता है। अतः तले हुए भोजन का परहेज करे। सब्जियों का सुप जरूर पिए। सुप बदल-बदल कर विभिन्न पियों का पिए। सुप में सोया ग्रेन्सुलस या सोया बड़ी मिलाये, इससे सुप की पौष्टिकता बढ़ जायगे। इससे भोजन में प्रोटीन की मात्रा बधाई जा सकेगी। फल की रस की जगह इस मौसम फल अधिक खाये। ऐसा करने से भोजन में फाइबर की मात्रा बढ़ेगी व पाचन क्रिया सुचारु रूप से चलेगी। इस मौसम में ताज़ा भोजन ही खाय सामान्य तापक्रम का सदा भोजन स्वस्थ रहने में मदद करेगा। बारिश के दौरान पत्तेदार सब्जी न पकाये। इस मौसम में ऐसी सब्जियों में कीड़े होते है। जो कई बार सफाई करने से पूर्णतः नहीं निकल पते।
दूध, तजा दही, पनीर, छेना सामान्य मात्रा में लेते रहना चाहिए। इस मौसम में प्रयास होना चाहिए की हम घर का बना भोजन करे। वसा, चीनी, नमक कम मात्रा में ले मांसाहारी भोजन कम मात्रा में खाये दूध उत्पाद सही मात्रा में लें। सब्जियां, फल पर्याप्त मात्रा में ले।

छोटी-छोटी बाते ध्यान रखकर हम मौसम में अच्छा व संतुलित भोजन ले सकते है। हमारा स्वास्थ हमरे हाथ में, खान-पान पर निर्भर है अतः प्रयास करते हुए हमें हर मौसम व हर अवस्था में संतुलित आहार लेना चाहिए।

Leave a Reply